All posts in Funny Hindi Poetry on Controversies of Indian Media – India

Poetry

मैं दलाल लिखूंगा तुम पत्रकार समझ लेना

Poetry

पत्रकारी का ढोंग, पैसे का ज़ोर

Poetry

कैद कर दिया सापों को ये कहकर सपेरे ने, अब इन्सानो को डसने के लिये मीडिया ही काफी है!

error: Content is protected !!
UA-55292910-2