All posts in Funny Hindi Poetry on Media – India

शोर करते रहो तुम सुर्ख़ियों में आने को हमारी तो खामोशियाँ भी अखबार हैं

Poetry

ये मौसम भी "बरखा दत्त" हो गया है

Poetry

दिबांग जी ....आप अद्भुत हो या आपके शब्द

Poetry

कैसी विडम्बना है एक साधू का धर्म जाति सब ढूंढ लिया मिडिया वालों ने, लेकिन आंतकवादीयों का धर्म और जाति अभी तक नहीं ढूंढ पाए हैं

Poetry

धर्म के नाम पर हमको लाडवा लो... राजनीति, हमसे कर्म का कांड बनबा लो... मीडिया

Poetry

यूपी में मायावती को आगे बताने वाला अपने गणित में बहुत पीछे रह गया

Poetry

बनते ये पत्रकार हैं, बिकते सरे बाज़ार हैं, इंसानियत पे भार हैं, बागो मे बहार है

Poetry

error: Content is protected !!
UA-55292910-2