All posts in Funny Hindi Poetry on Religion – India

ओले पड़ते ही सर मुंडवा लिया

Poetry

पानी में डूबकी लगाकर तीर्थ किये हजार, इनसे क्या होगा अगर बदले नहीं विचार

Poetry

मुंडा के अपना सर एक काफिर ने, इन फतवों का जनाजा निकाला है

Poetry

भगवा ओढ़े हिंदू, हरा पहने मुसलमान, मैं कौन सा रंग ओढू, जो बन जाऊं इंसान

Poetry

ना तुमको मंदिर चाहिए और ना ही मस्जिद, तुमको आपस में ख़ता ताल्लुक़ की बस जिद्द है

Poetry

अब तो राम भी है ताक मे, कब आ रहे है भगवाधारी पास मे

Poetry

अच्छा हुआ रफी साहब अब आप नही रहे नही तो आप पर भी फतवा लग जाता!

Poetry

error: Content is protected !!
UA-55292910-2