All posts in Funny Hindi Poetry on Secularism – India

Poetry

कावंड़ यात्रा पे जाम लगता है, मोहर्रम के जुलुस में भी जाम लगता है! चौराहे पे लगने वाले जाम का कोई धर्म नही होता यारों।

error: Content is protected !!
UA-55292910-2