All posts in Funny Hindi Poetry on Amit Shah

Poetry

गुजराती त्रस्त हैं गुजरात के गांवों में, साहेब के अच्छे दिन, घूम रहे हवाओं में।।

Poetry

हम सब का नारा, कमल का फूल हमारा

Poetry

सब दंगाई निर्दोष हैं इसका मैं गवाह हूँ, नमश्कार मैं अमित शाह हूँ

Poetry

भरे बाज़ार में हमदर्द को ठगना जारी रखिए, बस हर एक बात में एक जुमला भारी रखिए….

error: Content is protected !!
UA-55292910-2