All posts in Funny Hindi Poetry on Anna Hazare

Poetry

हम क्यूं हुक्मरानों के मुताबिक सोचे, क्यूं नहीं हम मुल्क के मुताबिक सोचे।

Poetry

मेरी जरूरते कम है, इसलीये मेरे जमीर मे दम है

error: Content is protected !!
UA-55292910-2