All posts in Funny Hindi Poetry on Brinda Karat

Poetry

ऐ राजनीति तू बस इतना बता दे तहज़ीब बेचकर चूरन खाया या पट्टी

Poetry

खोटे सिक्के जो कभी चले नहीं बाज़ार में, वो कमियाँ ढूंढ़ रहे है, आज मोदी जी की सरकार में!

Poetry

कैद कर लिया साँपों को यह कहकर सपेरे ने… नेता ही काफी है…अब इंसानों को डसने के लिए..!!

error: Content is protected !!
UA-55292910-2