All posts in Funny Hindi Poetry on Farooq Abdullah

Poetry

क्या रखा है अमेरिका और जापान में?? कुछ दिन तो गुजारियें हमारे हिन्दुस्तान में….!!! न ग्राहकी ,न धन्धे सिर्फ़ जुलुस भंडारे व चंन्दे

Poetry

हम बचाते रह गए दीमक से अपना घर कुर्सियों के चन्द कीड़े सारा मुल्क खा गए

Poetry

वोटों से बढ़ के अब कोई हथियार भी नहीं.. लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं..

Poetry

नेता जब बड़े हो जाते है तो सड़क पर खड़ा इंसान छोटा दिखाई देता है ये भारतीय राजनीति की सचाई है मानो या ना मानो

Poetry

सियासत की खेती है, नफरत बोई गई है… धर्म खाद की तरह इस्तेमाल हुआ, अब इंसानों की भरपूर कटाई हो रही है !

Poetry

ऐ राजनीति तू बस इतना बता दे तहज़ीब बेचकर चूरन खाया या पट्टी

Poetry

कुछ पन्ने इतिहास के मेरे मुल्क के सीने में शमशीर हो गए! जो लड़े ,जो मरे ,वो शहीद हो गए, जो डरे,जो झुके ,वो वज़ीर हो गए…

error: Content is protected !!
UA-55292910-2