All posts in Funny Hindi Poetry on Lalu Prasad Yadav

Poetry

सियासत की खेती है, नफरत बोई गई है… धर्म खाद की तरह इस्तेमाल हुआ, अब इंसानों की भरपूर कटाई हो रही है !

Poetry

ऐ राजनीति तू बस इतना बता दे तहज़ीब बेचकर चूरन खाया या पट्टी

Poetry

ललुआ-ललुआ दूर के चारा खाएं चूर के तेजस्वी को दिया थाली मे नितिश को दिया प्याली मे नितिश गए रूठ गठबंधन गया टूट,,,,,,

Poetry

पहले चारा चर गये अब खायेंगे देश, कुर्सी पर डाकू जमे धर नेता का भेष

error: Content is protected !!
UA-55292910-2