All posts in Funny Hindi Poetry on Manmohan Singh

Poetry

आप जब कुछ दिन रहे मौन, कहने लगे वो था ही कौन?

Poetry

मैं चुप्पी लिखूंगा, तुम मनमोहन समझ लेना

Poetry

हम है थोड़े से नादान इसलिये तो चुप हैं, ये दुनियां अधिक सायानी इसलिये तो चुप हैं।

error: Content is protected !!
UA-55292910-2