All posts in Funny Hindi Poetry on Ravana

Poetry

आदमी ही आदमी को छल रहा है, ये क्रम आज से नही, बरसों से चल रहा है, रोज चौराहे पर होता है “सीताहरण ” जबकि मुद्दतों से ‘रावण’ जल रहा है…!!

error: Content is protected !!
UA-55292910-2