All posts in Funny Hindi Poetry on Shatrughan Sinha

Poetry

कभी कभी शहद भी करेला लगता है, कुर्सी ना हो नीचे तो जमाना बेगाना लगता है

Poetry

घबराने से मसले हल नहीं होते,जो आज है वो कल नहीं होते, ध्यान रखो इस बात का ज़रूर,कीचड़ में सब कमल नहीं होते

error: Content is protected !!
UA-55292910-2