All posts in Funny Hindi Poetry on Vijay Mallya

Poetry

मैं समय का चक्र हूँ.. मैं राजा था..अब रंक हूँ..

Poetry

क्या खूब कहा है किसीने ठेका है बहुत दूर ढाबे से ही ले लो 20 जादा देके

Poetry

हमारे ऐब हमें उंगलियों पे गिनवाओ, हमारी पीठ के पीछे हमें बुरा न कहो

Poetry

लोग आईना कभी भी ना देखते, अगर आईने में चित्र की जगह चरित्र दिखाई देता

Poetry

जेल की रोटी खानी पड़ेगी, जेल का पानी पीना पड़ेगा, अब तो जेल मे जाना पड़ेगा

error: Content is protected !!
UA-55292910-2