All posts in Funny Hindi Poetry on Social Activists – India

Poetry

हम क्यूं हुक्मरानों के मुताबिक सोचे, क्यूं नहीं हम मुल्क के मुताबिक सोचे।

Poetry

मेरी जरूरते कम है, इसलीये मेरे जमीर मे दम है

error: Content is protected !!
UA-55292910-2