Poetry

जहां कमरों में कैद हो जाती है जिन्दगी लोग उसे शहर कहते है….

Comments are closed.

error: Content is protected !!
UA-55292910-2