Poetry

पहले चारा चर गये अब खायेंगे देश, कुर्सी पर डाकू जमे धर नेता का भेष

Comments are closed.

error: Content is protected !!
UA-55292910-2