Poetry

लोग आईना कभी भी ना देखते, अगर आईने में चित्र की जगह चरित्र दिखाई देता

Comments are closed.

error: Content is protected !!
UA-55292910-2