Poetry

क्या खूब कहा है किसीने ठेका है बहुत दूर ढाबे से ही ले लो 20 जादा देके

Comments are closed.

error: Content is protected !!
UA-55292910-2