Poetry

मैं समय का चक्र हूँ.. मैं राजा था..अब रंक हूँ..

Comments are closed.

error: Content is protected !!
UA-55292910-2