Poetry

सियासत की खेती है, नफरत बोई गई है… धर्म खाद की तरह इस्तेमाल हुआ, अब इंसानों की भरपूर कटाई हो रही है !

Comments are closed.

error: Content is protected !!
UA-55292910-2