Poetry

गुजराती त्रस्त हैं गुजरात के गांवों में, साहेब के अच्छे दिन, घूम रहे हवाओं में।।

Comments are closed.

error: Content is protected !!
UA-55292910-2