Poetry

एहसान किसी का वो रखते नहीं मेरा भी चुका दिया.. जितना खाया था नमक मेरा, मेरे जख्मों पर लगा दिया…

Comments are closed.

error: Content is protected !!
UA-55292910-2