Poetry

ना कजरे की धार, ना मोतियों का हार दिन भर जो अपनी बातों से पलटी मारे वो है केजरीवाल।

Comments are closed.

error: Content is protected !!
UA-55292910-2