Poetry

बिकतें थे हुक्मरान हमें कब था , इसका गम, रोना तो इस बात का है , कि इस मुल्क के अखबार बिक गए

Comments are closed.

error: Content is protected !!
UA-55292910-2