Poetry

बढ़ते कदम बता रहे, कहाँ गड़ी है आँख, गाढ़ी हुई चुनौतियां, चश्मा कीजे साफ़

Comments are closed.

error: Content is protected !!
UA-55292910-2